Smile Shayari

ऐ ज़िंदगी जो मिला प्यार से गले लगा लिया
सामने आते राहगीर को देख यूँ ही मुस्कुरा लिया

कहते है सब बनी हूँ मै, मुस्कुराने के लिए फूलो की तरह
आह निकली जब भी दिल से गमों को गले लगा लिया
सांसे गमगीन थी पर दिल रो के भी मुस्कुरा दिया

बड़ी मीठी होती है सुबह की धुप जाड़े की
पर कहां नसीब होती है मुझे

सर्द हवाओं ने जब गले लगाया उसकी बांहो में आकर सिमट गयी दुनिया मेरी,
होठो ने तो कुछ न कहां पर आँखों ने मुस्कुरा लिया

ऐ ज़िंदगी जो मिला प्यार से गले लगा लिया
सामने आते राहगीर को देख यूँ ही मुस्कुरा दिया

———-
Written By
Sudha Prasad